बेकार चीजों को बना रहे लाजवाब पेन स्टैंड कम खर्च में कर रहे हैं एक अनोखा काम व देते हैं लोगों को उपहार।

जी हां, घर में शादी की बेकार कार्ड सहित अनेक बार मिल जाते हैं लोग उन्हें कूड़ा में फेंक देते हैं लेकिन शिक्षक सुधीर कुमार ऐसा नहीं करते हैं। इन बेकार चीजों को उपयोगी बनाकर लोगों को प्रेरणा देते हैं इससे पेन स्टैंड सहित अन्य वस्तुएं बनाते हैं उत्क्रमित मध्य विद्यालय चकिया कुंडली में सहायक शिक्षक के पद पर कार्य कर रहे हैं। साथ ही साथ BRP कुढ़नी के पद पर भी कार्य कर रहे हैं। श्री सुधीर कुमार का शौक बचपन से ही इस तरीके के कार्यों में रहा है वह बेकार की वस्तुओं को उपयोग में लाते हैं साथ ही साथ स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाते हैं।

सुधीर कुमार 1999 में शिक्षक बने और यूनिसेफ की ओर से कला समेकित अधिगम कार्यक्रम से जुड़ने का उन्हें मौका मिला वहां बेकार वस्तुओं के उपयोग कर पहले उन्होंने कबाड़ के सामान से पेन स्टैंड तैयार किया और लोगों को गिफ्ट किया। अभी तक सैकड़ों उपहार उन्होंने लोगों को दिया है और इसकी सराहना चौतरफा हो रही है।

सुधीर कुमार ने बीते मार्च में मुजफ्फरपुर जापान के सामाजिककार्यकर्ता ससाकि खाँजी को पेन स्टैंड उपहार में दिया तो वे तारीफ करते नहीं थके। इसके अलावा मिथिला विश्वविद्यालय दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के निदेशक सरदार योगेंद्र सिंह ओमकार गुप्ता एनसीईआरटी नई दिल्ली में एजुकेशन के विभागाध्यक्ष डॉ सुधीर और जिला परिषद अध्यक्ष इंदिरा देवी सहित अंकु हाथ से बनाए उपहार दे चुके हैं सुधीर का मानना है कि हम इस तरह स्वच्छता का संदेश दे सकते हैं घर में आए शादी के कार्ड जो बेकार हो जाते हैं उन्हें संजोकर संग्रहण करके उनका उपयोग पेन स्टैंड बनाने में करते हैं पेपर रोल के अंदर का हिस्सा फेविकोल कलरफुल का इस्तेमाल करते हैं इसके अलावा जिन्हें वह पेन स्टैंड गिफ्ट करना होता है उनका फोटो और उनका नाम कंप्यूटर से निकलवा कर और चिपका देते हैं।
साथ ही साथ लगभग 25 से अधिक देशों की करेंसी और पुराने सिक्के भी इकठ्ठे किये हैं। उनका यह शौक भी लाजबाब है। वीडियो👇

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here