विधानमंडल के समक्ष नियोजित शिक्षकों का धरना दूसरे दिन भी जारी, CM नीतीश के MLC भी समर्थन में उतरे/

पटनाः जिस राज्य में शिक्षक अपने हक के लिए सड़कों पर उतरे वह राज्य उन्नति की राह पर टिक नहीं सकता है। शिक्षा के विकास और शिक्षकों के उत्थान के बिना किसी राज्य व राष्ट्र के विकास की कल्पना करना बेमानी है। ये बातें बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के संयुक्त सचिव सह ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय व कामेश्वर सिंह मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा के सीनेटर सुरेश राय ने कही।वे बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के आह्वान पर राज्य के नियोजित शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों के चार वर्षों से लंबित सेवाशर्त नियमावली के निर्धारण, मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद भी सातवां वेतन आयोग की अनुशंसा के आलोक में वेतनमान लागू करने सहित विभिन्न लंबित मांगों को लेकर विधानमंडल के समक्ष चल रहे तीनदिवसीय शांतिपूर्ण धरना कार्यक्रम के दूसरे दिन कही।

धरना कार्यक्रम के दूसरे दिन मुंगेर, दरभंगा और भागलपुर प्रमंडल अंतर्गत जिलों के हजारों की संख्या में शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष सहित प्रखंड से प्रमंडल स्तर के संघीय पदाधिकारियों ने अपनी आवाज बुलंद की। संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पांडेय ने कहा कि न्याय के साथ विकास का नारा देने वाली सरकार राज्य के नियोजित शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों के साथ न सिर्फ अन्नाय कर रही है बल्कि शिक्षकों के बिना विकास का ढ़िढोरा पिट रही है। विश्व के विकसित देश अपने यहां अन्य कर्मियों से ज्यादा सुविधाएं अपने शिक्षकों को देते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि शिक्षक राष्ट्रनिर्माता होता है।

*कई विधान पार्षद व विधायक का समर्थन*

नियोजित शिक्षकों के आंदोलन को समर्थन देने सत्तापक्ष जेडीयू के विधानपार्षद के अलावे विपक्षी पार्टी के भी विधानपार्षद पहुंचे। विधान पार्षद संजीव कुमार सिंह, प्रो संजय कुमार सिंह, मदन मोहन झा, जेडीयू एमएलसी दिलीप चौधरी, विधायक पूनम पासवान ने शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों को संबोधित करते हुए उनकी लड़ाई में मांगें पूरी होने तक सड़क से लेकर सदन तक साथ देने का वादा किया। धरना कार्यक्रम की अध्यक्षता संघ के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह और संचालन संघ के शैक्षिक परिषद के सचिव शशिभूषण दूबे ने की।

*इन्होंने भी किया संबोधित*

धरना कार्यक्रम को संबोधित करने वालों में संघ के कोषाध्यक्ष नर्मदेश्वर शर्मा ‘पन्ना, मूल्यांकन परिषद के सचिव देववंश सिंह, प्रेस प्रबंधक वामेश्वर शर्मा, प्राच्य प्रभा के प्रधान संपादक विजय कुमार सिंह, संयुक्त सचिव विनय मोहन, अरुण कुमार यादव, राज्य कार्यसमिति सदस्य मृत्युंजय कुमार, मनोज कुमार, प्रवीण कुमार, राजीव कुमार, गौतम महात्मा, मुकुल शुक्ला, प्रशांत कुमार, सिद्धार्थ शंकर, सुबोध कुमार, प्रमंडल अध्यक्ष रामनरेश पांडेय, नागेश्वर प्रसाद राय, मुश्ताक अली, प्रमंडलीय सचिव अशोक यादव, विजय चंद्र दूबे, जिला सचिव रंजीत कुमार, श्रवण कुमार चौधरी, सत्यजीत कुमार, रामेश्वर हरिजन, विष्णुदेव यादव, वचन झा, वकील राम, राजनीति कुमार, रत्नेश्वर शर्मा, संजीव कुमार, रामदयाल चौधरी, जिला अध्यक्ष उमानंद चौधरी, अखिलेश कुमार, मुनेश्वर पंडित, सीताराम यादव, सुनैना देवी, रामकृष्ण कुमार, रवि कुमार, रामपुकार सिंह, बालो यादव सहित अन्य शामिल हैं।

संघ के मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अभिषेक कुमार ने बताया कि गुरुवार (28 नवंबर) को पटना, मगध, सारण और प्रमंडलों के शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष सहित प्रखंड से प्रमंडल स्तर के सभी संघीय पदाधिकारी भाग लेंगे। साथ ही राज्य संघ के सभी पदाधिकारी धरनास्थल पर उपस्थित रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here