SWSP के मुख्य याचिकाकर्ता उपेन्द्र राय के द्वारा राज्य कमिटी का हुआ वार्षिक सम्मेलन, किया गया समीक्षा और प्रस्तुत किया गया आय-व्यय का ब्यौरा

Patna// समान काम समान वेतन (SWSP) के मुख्य याचिकाकर्ता और BSTSC और BTSC के संयोजक श्री उपेन्द्र राय के अध्यक्षता में दिनांक 04 मार्च 2019 को BSTSC और Btsc Bihar के राज्य कार्यकारिणी की बैठक पटना में चैम्बर ऑफ कॉमर्स के सभागार में आयोजित की गई। इस वार्षिक सम्मेलन की बैठक में बिहार माध्यमिक शिक्षक संघर्ष समिति और बिहार शिक्षक संघर्ष समिति के राज्य स्तरीय सदस्य सम्मिलित हुए।
इस बैठक में सुप्रीम कोर्ट मैं रिजर्व रखे गए केस के संबंध में विस्तृत चर्चा की गई और आगे की संभावित रणनीति क्या हो सकती है, इस पर मंथन किया गया। साथ ही साथ केस संख्या CWJC-21199/2013 और SLP-00020/18 में क्या, कितना और कहां खर्च हुए हैं, किस-किस मद में खर्च हुए है? उसकी विवरण प्रस्तुत किया गया।
चौपाल के सक्रिय सदस्य एवं राज्य प्रतिनिधि सदस्य सह महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष संजीव समीर ने बताया कि-  माननीय उपेंद्र राय जी पर विश्वास करके अगर लाखों रुपये अगर जिस शिक्षक ने भी दिया है वे हिसाब नहीं मांग रहे, क्योंकि उन्हें उपेन्द्र राय पर पूरा भरोसा है। लेकिन कुछ दलाल किस्म के संघ के दलाल टाइप नेता जिसने एक रुपया भी नही दिए है वही आज सोसल मीडिया पर हिसाब मानते फिर रहे हैं। जबकि वैसे लोगो को पता होना चाहिए कि उपेन्द्र जी हमेशा ही कमिटी के आय-व्यय का हिसाब देते रहे हैं। आज हिसाब मांगने वाले सामने क्यों नही आ रहे? उन्होंने ने यह भी कहा कि माननीय उपेन्द्र राय को बदनाम करने में जो लोग भी हैं उन्हें भगवान भी माफ नहीं करेंगे।

आप सब की अवगत कर दें कि आज उसी कड़ी में “पारदर्शिता का मिसाल” कायम करते हुए जो भी राशि आम शिक्षकों के द्वारा सहयोग राशिके रूप में माननीय श्री उपेन्द्र राय जी के खाते पर उपलब्ध कराया गया, उसका विस्तृत विवरण उनके द्वारा प्रस्तुत किया गया।
माननीय श्री उपेन्द्र राय जी ने इस वित्तीय वर्ष में जो भी खर्च किये है और जहां भी खर्च किए गए हैं उन सब का कोटिवार विवरण प्रस्तुत किए। साथ ही साथ पूर्व की राशि का भी ब्यौरा दिए हैं। चाहे वह वकील पर किये गए खर्च हो या अन्य किसी भी मद में खर्च किए गए हैं, उन सब के बारे में उन्होंने विस्तार से बताया और सभी के समक्ष अपनी खाता को सार्वजनिक किया।

इससे यह प्रतीत होता है कि उन्होंने पूरी पारदर्शिता बरतते हुए सभी तरह के #आय-व्यय का विवरण प्रस्तुत किया। इस संदर्भ में चार पार्ट में आपलोगों के समक्ष वीडियो प्रस्तूत किया जा रहा है। जिसका लिंक निम्नलिखित है;-
Part 01– 
https://youtu.be/dTc2uknHNcI

Part 02– 
https://youtu.be/hDBZyJjAQoM

Part 03– 
https://youtu.be/YxXOPWy5dPI

Part 04– 
https://youtu.be/eiG6vAm_9Pw। 
इस बैठक में पटना हाई कोर्ट के वकील श्री संजीव कुमार जी उपस्थित रहे जो इस केस के एक महत्त्वपूर्ण कड़ी हैं। क्योंकि जब इस केस का जन्म भी नहीं हुआ था तब से वे उपेन्द्र राय जी के साथ हैं और कमिटी के हर दुःख – सुख में साथ रहे हैं। आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के 24 तारीख में जो भी सुनवाई हुई उसमें वे 23 तारीख पर उपस्थित रहने वाले अधिवक्ता हैं। इस वजह से उन्हें केस की बारीकियां बहुत अच्छे से पता है।
अधिवक्ता संजीव कुमार ने बताया कि हमें न्यायपालिका पर पूर्ण विश्वास रखना होगा साथ ही साथ हमें अपने न्याय के लिए इंतजार करना होगा क्योंकि कुछ लोग भ्रम की स्थिति पैदा कर रहे हैं और 03 महीने में न्याय आ जाएगा तो कुछ लोग कह रहे हैं कि 06 महीने में न्याय आ जाएगा। उन्होंने साफ साफ बताया कि रिजर्व रखे गए केस में न्याय 03 माह 06 माह या 09 माह में आएंगे ये कहना बहुत ही मुश्किल है। इस तरह जे बड़े मामलों में साल-साल भर भी लग जाते हैं। यानी कि इस परिस्थिति में न्यायपालिका पट विश्वास जताते हुए हम सब को सिर्फ और सिर्फ इंतजार करना होगा।
हाँ यह तय है कि जो जज केस को रिजर्व रखते है और अगर वे रिटायर होने वाले होते हैं तो वैसे परिस्थिति में रिटायर होने के पहले वे जजमेंट दे देते हैं। तो इस तरीके से अगर देखा जाए तो हम सबको इंतजार के अलावा और कोई रास्ता नहीं है आपको बता दें इस केस के एक जज माननीय सप्रे साहब अगस्त 2019 में रिटायर करेंगे इस हिसाब से यह पूरी संभावना बनती है की अगस्त के पहले हर हाल में जजमेंट आ जाएगा अगर उस अवधि तक जजमेंट नहीं आता है और इसके से दूसरे जज जुड़ते हैं ऐसी परिस्थिति में थोड़ी मुश्किल आ सकती हैं मगर ऐसा सामान्यतया नहीं होता है।
ऐसी स्थिति में किसी भी तरह का कोई भी शिक्षकों के द्वारा उठाया गया गलत स्टेप 4.5 लाख शिक्षकों को भुगतना पड़ सकता है इसलिए उन्होंने सभी याचिकाकर्ताओं से आग्रह किया है कि किसी भी तरह का गलती नहीं करें।

इस बैठक में बिहार के राज्य कमेटी (राज्य कार्यकारिणी सदस्य एवं राज्य सलाहकार समिति) के सदस्य उपस्थित हुए। इन सदस्यों में विजय शंकर त्रिपाठी, नवीन कुमार, प्रमोद कुशवाहा, संजीव समीर, निशा भारती, मनोज कुमार, जय प्रकाश सिंह, दीपक चौरसिया, विमल प्रकाश, भारती जी, व अन्य सदस्य सम्मिलित हुए। धन्यवाद ज्ञापन विजयशंकर त्रिपाठी ने की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here