कविता रचनाएँ

अंदाज़ा नहीं था

अंदाज़ा नहीं था”
यादों की पोटली में सुंदर स्मृतियाँ
हृदय में सजाकर खुशी से रहूँगी।
कभी गम को अपने नजदीक भी
फटनकने की मैं इजाजत न दूँगी।
हुआ कुछ उलट मेरी जिन्दगी में
खुशियों ने कहा खुश होने न दूँगी।
अंदाज़ा नहीं था कि ऐसा ही होगा
मैं भी इसी जिद्द पर अडिग रहूँगी।
दूरी उचित है ऐसे मित्रों से यारों
समय से सचेत मैं तो उनसे रहूँगी।

Related posts

बार-बार

cradmin

कविता- क्या पाया?

cradmin

मुजफ्फरपुर/बांका : मंदार रत्न से सम्मानित हुए मुजफ्फरपुर के चौपाली संजीव समीर

cradmin

Leave a Comment